Wednesday, 4 March 2020

मायड़ भासा राजस्थानी समचार

डेह नागौर में 14 मार्च ने राजस्थानी उच्छब
 -16 साहित्यकार हुवैला सम्मानित
-उछब में सात राजस्थानी पोथ्यां रौ विमोचन
नागौर. नेम प्रकासण डेह अर अखिल भारतीय राजस्थानी भाषा
मान्यता संघर्ष समिति रै भेळप में मायड़ भासा राजस्थानी रौ 
जबरो उछब 14 मार्च ने हुवैला। राजस्थानी भासा रा पुरस्कार 
अर पोथी विमोचन रा इण जबरा कार्यक्रम मांय सात पोथ्यां
 रा विमोचन रै सागे मायड़ भासा री विधावां रा सोळह साहितकार
 लिखारां ने सम्मानित करया जावैला। ओ राजस्थानी पुरस्कार
 उच्छब 2019 डेह गांव रा कुंजल माता मिन्दर परिसर मांय
 अबे 14 मार्च दिनुगे साढ़ी दस बज्यां हुवैला। पेलां ओ उछब
 1 मार्च ने हुवण वळो हो पण अबखाई सूं इण। ने आगे करर
 दियो। आयोजक पवन पहाडिय़ा बताया क राजस्थानी 
साहित्यकार आईदानसिंह भाटी मुख्य अतिथि हुवैला।अध्यक्षता 
जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय जोधपुर रा राजस्थानी विभाग
 रा पूर्व अध्यक्ष प्रोफेसर कल्याणसिंह शेखावत करैला। 
कार्यक्रम रा विशिष्ट अतिथि जिला सत्र न्यायाधीश राजसमंद
देवेन्द्र जोशी,जोधपुर रा राजस्थानी साहित्यकार मीठेश निर्मोही,
जिला परिषद नागौर रा मुख्य कार्यकारी अधिकारी जवाहर 
चौधरी , राजकीय महाविद्यालय नागौर रा प्राचार्य शंकरलाल
 जाखड़, ग्राम पंचायत डेह रा सरपंच रणवीरसिंह उदावत हुवैला।
समारोह रौ संचालन डॉ गजादान चारण करैला।

इण लिखारां ने मिलेला साहित्य सम्मान
संयोजक लक्ष्मणदान कविया बताया क  निर्णायक मंडल 
में कविया रै सागे प्रोफेसर कल्याणसिंह शेखावत, डॉ मनोहरसिंह
राठौड़ , डॉ श्याम सुन्दर भारती, डॉ गजादान चारण, डॉ चेतन 
स्वामी हा।निर्णायकां रै मुजब सम्मानित हुवण वाळा साहित्यकारां
में डॉ अर्जुनसिंह शेखावत (पाली) ‘आडावळो अरड़ायो’ ने नेमीचंद 
पहाडिय़ा पद्य पुरस्कार, नरपतसिंह सांखला (बीकानेर) ‘काळजै 
री कोर’ अमराव देवी पहाडिय़ा गद्य पुरस्कार, श्याम जांगीड़
 (चिड़ावा) ‘नोरंगजी री अमर कहाणी’ कमला देवी पहाडिय़ा
 उपन्यास पुरस्कार, पूरन सरमा (जयपुर) ‘किस्सो रामराज रो’ 
भंवरलाल सबलावत व्यंग्य पुरस्कार, सत्यदेव संवितेन्द्र (जोधपुर)
 ‘न्यू पिंच’ सिरदाराराम मौर्य बाल साहित्य गद्य पुरस्कार, मनोज 
चारण ‘गाडण’ (रतनगढ) ‘मिणधर माण मरदण’ मोहनदान 
गाडण भक्ति काव्य पुरस्कार, डॉ. शक्तिदान कविया (जोधपुर)
 ‘संबोध सतसई’ सोहनदान सिंहढायच डिंगल पुरस्कार, 
नागराज शर्मा (पिलानी झुंझुनूं) सम्पादक बिणजारो जुगलकिशोर
 जैथलिया राजस्थानी भाषा सेवा सम्मान, डॉ. अनुश्री राठौड़ 
(उदयपुर) ‘ओळूं’ छगनमल बेताला कहाणी पुरस्कार, कमल
 रंगा (बीकानेर) ‘अदीठ सांच’ पारसमल पांड्या राजस्थानी 
साहित्य पुरस्कार, बसंती पंवार (जोधपुर) ‘नूंवौ सूरज’ मैना 
देवी पांड्या राजस्थानी लेखिका पुरस्कार, डॉ भगवतीलाल 
शर्मा (जोधपुर) ‘अमोलक मोती’ चण्डीदान देवकरणोत अनुवाद
 पुरस्कार, श्रीभगवान सैनी (श्री डूंगरगढ़) ‘म्हैं ई रेत रमूंला’ 
अमितसिंह चौहान राजस्थानी बाल पद्य पुरस्कार, दीनदयाल 
ओझा (जैसलमेर) गोपालसिंह उदावत वय वंदन पुरस्कार , 
राजेन्द्र शर्मा मुसाफि र (चूरू) ‘मेळो’ पारस देवी बेताला 
राजस्थानी कहाणी पुरस्कार अर नाटककार छगनलाल 
सेवदा ‘निशंक’(सरदारशहर) ‘कुवै भांग पड़ी’ सज्जनसिंह
 उदावत राजस्थानी नाटक पुरस्कार दियो जावैला। कविया
 बताया क सम्मानित साहित्यकार ने ग्यारह हजार रिपिया, 
शॉल, श्रीफ ल बखाण पानो अर राजस्थानी साहित्य भेंट
 कर सम्मानित करयो जावैला।

No comments:

Post a comment