Tuesday, 13 August 2019

राजस्थानी सौरम री आदरजोग गुरुजनां सूं अरज

टाबरां वास्ते 15 अगस्त रो भासण
15 अगस्त ने मायड़ भासा राजस्थानी में बोलण तांही टाबरां ने प्रोत्साहित करो। इण भासण में आप रै मुजब स्थानीय मुद्दा जोड़ सको।....
बिद्या री देवी मां सुरसती, आपां रा गरबजोग भारत देश रो मान बधावण वाळा तिरंगा अर देस ने सुतन्तर करण में आप रौ जीवण बलिदान करणिया क्रान्तिकारियां ने निंवण करतो आदरजोग मंच माथे विराजियोड़ा........(मंच रा पांवणा रौ नांव बोल दयो)....म्हारा गुरुजन, गांव रा बडेरा भाइयां अर बैणा।
आदरजोग इण विद्यालय रा भामाशाह .......(स्कूल में सेयोग करण वाळा रौ नांव बोल सको)...आपां रौ देस 15 अगस्त 1947 ने अंगरेजां री गुलामी सूं मुगत हुयो। मायड़ रा वीर सपूतां ने निवण करुं जका आजादी रै पछे जागरूक रहय अर देस री सेवा करी।इण देस ने आजाद करावण वाळा महात्मा गांधी, वीर सावरकर, सुभाष चंद बोस, भगत सिंह ,राजगुरु, सुखदेव जेड़ा क्रान्तिकारियां रा बलिदान सूं सीख लेयर आपां देस रै विकास में सेयोग करां।आज मायड़ रा सपूतां रा बलिदान सूं सीख लेवणी चाइजै क देस री आन,बान अर शान ने बधावण सारू आपां कोई कसर नीं राखां। आओ आज सगळा ओ परण लेवां क देस रा वीर सहीदां रौ बलिदान व्यर्थ नीं जावेला अर सनातन सांस्कृतिक परम्परावां ने निभावन्ता बडेरां री थाती आपां रा देस भारत ने पाछो विश्व गुरु रो दरजो दिरावांला।
जय भारत

No comments:

Post a comment