Sunday, 30 June 2019

Rajasthani Souram मायड़ भासा रा हेताळुवां सूं खरी-खरी

मायड़ भासा रा हेताळुवां सूं खरी-खरी

ईसवी सन 2019 आधो बीतग्यौ अर नूंवां विक्रम संवत 2076 रा तीन महीना चेत,बैसाख अर जेठ बीतग्या, अषाढ़ आधो निकल्यां पछे भी हाल मेह रौ अतो-पतो कोनी। दिन लू,बळती अर अंगारा बरसाता सूरज सूं धाप्योड़ा लोग एसी, कूलर अर पंखा रै साहरै दिन काढ़े, पण इण सूं तो तापमान मोकळो बधै प्रदूषण रौ खिलको न्यारो ही हुवै। आ तो मारवाड़ रा मौसम री बात हुई। केई प्रवासी मारवाड़ रा मेह पांणी ने उडीके क बरसात हुयां मौसम में कीं ठण्डक बापरै तो कदास एक गेड़ो गांव रौ कर आय जावां। भाई-सेणां सूं मिलणों हुय जावै, गांव रा बचपन रा संगी-साथी सूं ही मिलणों हुय जावै अर बडेरां री पुण्याई ने धोक देवता कुळ देवी देवता रै वास्तै घर में दीयो ही कर आवां। तो भगवान सब री मंश्या पूरी करै मेह बरसे अर परदेसी पांवणा आप रौ  हेत बरसाता जलम भोम रा बाशिन्दा ने दरसण दिरावै। प्रदेस अर केन्द्र री सरकार रा चुणाव हुयां पछै लोगां आप-आपरी दौड़ मायड़ भासा री मानता सारू आप-आप रा खेतर रा जन प्रतिनिधि सांसद अर विधायकां तांई लगाई पण हाल तांई तो कीं चानणों मायड़ भासा री  मानता सारू दिख्यौ कोनी आगे लीली छतरी वाळा री मरजी क ऊपर बैठा भगवान कद कोई रै नेता रा जीव रै मन में मायड़ भासा री सुध लेवण री जचावै क मायड़ भासा  ने संवैधानिक मानता मिलै, राजस्थान में सोना रौ सूरज उगै अर मानता री गाड़ी री खेंचळ करता हेताळुवां रै जीव में सोराई बापरै। लारले दिनंा केन्द्र सरकार रै प्राथमिक री भणाई खेतरीय भासा मांय करण रौ निरणै कीं चांनणों करतो लखावै। बडेरा कहता क धीणो तो भेंस ब्यायां ही हुवै। जको जिण दिन संवैधानिक मानता रौ हुक म हुय जावैला, जद ही जाणनो क अबै चानणों हुयग्यौ। पण जद तांई कांई करां। ओ ही मोटो सवाल आज री नूंवी अर पुराणी पीढ़ी रा लोगां रौ है, तो इण रौ ओ ही जवाब हुय सकै क जको जठै बैठो है अर जिण तरह सूं कर सकै, मायड़  भासा री सेवा जियां बस चालै करतो रहवै। बोलणे, लिखणे अर पढ़णे रै सागै आम बोलचाल में मायड़ भासा राजस्थानी लोगां री बोलचाल में हुवण रै सागै हिरदा मांय जीवंती रहवै। आवंती जलम आठयूं रै दिन राजस्थानी सौरम में बरोबर लिखता दोय  साल हुय जावैला। एक जुलाई सोमवार सूं सौरम नूंवै सिरै सूं महकेला। न्यारा-न्यारा स्तम्भां में नूंवी पुराणी रौचक जाणकारी आप रै सारू सौरम में मिलती रहवैला। दिग-दिगन्त में रहवण वाळा प्रवासी राजस्थानी भाई-सैणां री रुचि सारू इण में पोस्ट करता रहवांला। आप रौ सहयोग मिलतो रहयौ। मिलतो रहवैला। मायड़ भासा रा  नूंवा लिखारां ने प्रोत्साहण देवण रै सागै थरपिज्योड़ा लिखारां री जाणकारी सौरम मांय मिलैला। राजस्थानी सौरम रा फेसबुक पेज, फेसबुक अर  वाटसअप पर गूगळ में सौरम रौ लिंक आप री सुविधा रै वास्तै भेज सकां। यूं आप गूगळ  में राजस्थानी सौरम हिन्दी या अंग्रेजी में लिख र भी सौरम बांच सकौ।

-बाबूलाल टाक 9413365577

No comments:

Post a comment