Tuesday, 11 September 2018

महाकवि कन्हैयालाल सेठियाजी

आज मनावां महाकवि सेठियाजी रौ जलमोत्सव
 
राजस्थान री महमा गावण सारू उणां री एक रचना धरती धोरां री सिमरथ अर समरिध है। इण एक रचना सूं आखी दुनिया में राजस्थानी भाई राजस्थान रौ जस गावै अर सेठियाजी ने याद करे। राजस्थानी रा ख्यातनांव महाकवि कन्हैयालाल सेठिया रो जलम सुजानगढ़ (चूरू) में 11 सितम्बर 1919 रै दिन होयो। इण साल उणां रौ जलम सताब्दी बरस है।आज मंगलवार रै दिन राजस्थानी लोग आप ने श्रद्धा सूं याद करे। केई भाई आपरी सुविधा सारू जयंती समारोह माथै ठौड़-ठौड़ कार्यक्रम करे।आप राजस्थानी रै सागै-सागै हिंदी, उर्दू में भी कवि रै रूप में घणी ख्याति अर्जित करी सेठिया जी राजस्थानी रा सिरै कवि मानीजै, सेठियाजी री राजस्थानी में मींझर, सबद, कूंकूं, अघोरी काळ, रमणियै रा सोरठा, लीलटांस अर हेमाणी आद काव्य-कृतियां छपी। ‘लीलटांस’ ने केन्द्रीय साहित्य अकादमी रो पुरस्कार मिल्यो।
पाठकां सारू धरती धोरां री रचना उणां ने श्रद्धा सूं याद करता थका।
 

आ तो सुरगां नै सरमावै,ईं पर देव रमण नै आवै।
ईं रो जस नर-नारी गावै,धरती धोरां री।
सूरज कण-कण नै चमकावै,चन्दो इमरत रस बरसावै।
तारा निछरावल कर ज्यावै,धरती धोरां री ।
काळा बादलिया घहरावै,बिरखा घूघरिया घमकावै।
बिजली डरती ओला खावै, धरती धोरां री ।
लुळ-लुळ बाजरियो लैरावै,मक्की झालो दे’र बुलावै।
कुदरत दोन्यूं हाथ लुटावै,धरती धोरां री ।
पंछी मधरा-मधरा बोलै,मिसरी मीठै सुर स्यूं घोलै।
झीणूं बायरियो पंपोळै,धरती धोरां री ।
नारा नागौरी हिद ताता,मदुआ ऊंट अणूंता खाथा ।
ईं रै घोड़ां री के बातां ? धरती धोरां री ।
ईं रा फल फुलड़ा मन भावण,ईं रै धीणो आंगण-आंगण।
बाजै सगळां स्यूं बड़ भागण,धरती धोरां री ।
ईं रो चित्तौड़ो गढ़ लूंठो, ओ तो रण वीरां रो खूंटो।
ईं रे जोधाणूं नौ कूंटो,धरती धोरां री।
आबू आभै रै परवाणै,लूणी गंगाजी ही जाणै।
ऊभो जयसलमेर सिंवाणै,धरती धोरां री।
ईं रो बीकाणूं गरबीलो,ईं रो अलवर जबर हठीलो।
ईं रो अजयमेर भड़कीलो,धरती धोरां री।
जैपर नगरयां में पटराणी,कोटा बूंटी कद अणजाणी ?
चम्बल कैवै आं री का’णी,धरती धोरां री ।
कोनी नांव भरतपुर छोटो,घूम्यो सूरजमल रो घोटो।
खाई मात फिरंगी मोटो,धरती धोरां री।
ईं स्यूं नहीं माळवो न्यारो,मोबी हरियाणो है प्यारो।
मिलतो तीन्यां रो उणियारो,धरती धोरां री ।
ईडर-पालनपुर है ईं रा,सागी जामण जाया बीरा।
अै तो टुकड़ा मरू रै जी रा,धरती धोरां री ।
सोरठ बंध्यो सोरठां लारै,भेळप सिंध आप हंकारै।
मूमल बिसरयो हेत चितारै,धरती धोरां री।
ईं पर तनड़ो-मनड़ो वारां,ईं पर जीवण प्राण उवारां।
ईं री धजा उडै गिगनारां,धरती धोरां री।
ईं नै मोत्यां थाल बधावां,ईं री धूल लिलाड़ लगावां।
ईं रो मोटो भाग सरावां,धरती धोरां री।
ईं रै सत री आण निभावां,ईं रै पत नै नही लजावां।
ईं नै माथो भेंट चढ़ावां,मायड़ करोड़ां री,धरती धोरां री।
धरती धोरां री...धरती धोरां री...धरती धोरां री...।

आओ आज आपां सगळा मिल'र धरती धोरां री अमर लेखक महाकवि कन्हैया लाल सेठिया जी ने आदरांजलि देवां।


1 comment:

  1. मायड भाषा खातिर सेठियाजी रा प्रयासा न घणांमान आदरांजलि

    ReplyDelete