Saturday, 18 August 2018

राजस्थानी कहाणी

उदयपुर री डॉ- अनुश्री राठौड़ ने मिल्यो पेलो पुरस्कार

नागौर । राजस्थानी तिमाही 'राजस्थली’ रै 40 बरस सूं छपण सारू हुई कहाणी प्रतियोगिता 'श्री बख्तावरसिंह राजपुरोहित राजस्थानी कहानी प्रतियोगिता' में उदयपुर रा डॉ- अनुश्री राठौड़ री कहाणी 'धोळां री लाज’ ने पेलो, जोधपुर री संतोष चौधरी री कहाणी 'टूंटियो’ दूजो अर चूरू रा राजेन्द्र कुमार शर्मा 'मुसाफिर’ री 'आतमबळ’ ने तिजो पुरस्कार मिल्यो।
इणी ज तरहां वाजिद हसन काजी जोधपुर री 'दरखत री मुगती’ मनोज कुमार स्वामी सूरतगढ री 'पिंडदान’ 'किशोर कुमार निर्वाण' तारानगर री 'फिरती घिरती छियां’ विमला नागला केकड़ी री 'पीहरबासो’ अर सुनील कुमार गज्जाणी बीकानेर री 'डायरी / हेत-कॉम’ ने सराहवण जोग मानी।
जेबा रशीद जोधपुर री 'दायजै री लाय', माणक तुलसीराम गौड़ बैंगलोर री 'अबखी मुळक' ,छगनलाल व्यास, खांडप री 'भीड़' , मंजू सारस्वत बीकानेर री 'शोभा' धनराज पंवार बालोतरा री 'फगत अेक बेटो' अर जितेन्द्र निर्मोही कोटा री 'बजंटी को सुख' ने राजस्थली क्लब में सामल करी।
प्रतियोगिता रा निर्णायक डॉ- मदन सैनी, श्री शंकरसिंह राजपुरोहित अर रवि पुरोहित हा । श्री बख्तावरसिंह राजपुरोहित खाराबेरा रै सहयोग सूं प्रतियोगिता रा नगद पुरस्कार विजेतावां ने 14 सितम्बर 2018 ने राजस्थली री प्रकाशक संस्था राष्ट्रभाषा हिन्दी प्रचार समिति रै वार्षिक उछब माथै श्रीडूंगरगढ में पुरस्कृत करैला।

1 comment: