Friday, 6 July 2018

कागद की कविताई' ओमजी ने याद करया

कागद की कविताई' ओमजी ने याद करया'
सूरतगढ़
शब्द संस्थान सूरतगढ़ रा कार्यक्रम ‘कागद की कविताई' में राजस्थानी साहित्यकार ओम पुरोहित कागद री कविता रौ वाचन हरिमोहन सारस्वत कियो। कागद रा जलमदिन माथे गुरुवार ने हिन्दी अर राजस्थानी कवितावां रौ पाठ करयो। कार्यक्रम अध्यक्ष वरिष्ठ साहित्यकार मोहन आलोक, मुख्य वक्ता नीरज दईया, अंकिता कागदांश, भारती कागदांश, राजेश चड्ढा इण मौके कागद ने पुष्पांजलि अर्पित करी।
इण मौके नीरज दईया, वरिष्ठ साहित्यकार मोहन आलोक,मनोज स्वामी, संदेश त्यागी, हरीश हैरी बिचार व्यक्त करया। कार्यक्रम में अशोक परिहार उदय, नरेश वर्मा, राजूराम बिजारणिया, विनोद नोखवाल, सतीश छिंपा, करणीदानसिंह राजपूत, नवनीत पांडे, प्रह्लादराय पारीक, गोपीराम सिराव, मदन गोपाल लड्ढा, महेन्द्रसिंह शेखावत, रामेश्वरदयाल तिवाड़ी, नरेश मेहन कागद रा संस्मरण सुनाया। कार्यक्रम में व्यापार मंडल अध्यक्ष ललित सिडाना,रोटरी क्लब अध्यक्ष देवचंद दईया, अरूण शहैरिया, सुरेन्द्र सुन्दरम, सुमन शेखावत, इंजीनियर रमेश माथुर, आशा शर्मा, जयश्री शर्मा, लाजपतराय भाटिया, दिनेशचन्द्र शर्मा, नरेश रिणवा, कमल, राजीव शर्मा, जितेन्द्र ओझा, हनुमंत ओझा, शिव सारड़ा, अनिल धानुका सहित साहित्यकार व साहित्यप्रेमी हा। संचालन राजेश करयो। मनोज स्वामी आभार जतायो।
-प्रस्तुति हरीश हैरी

No comments:

Post a comment