Saturday, 30 June 2018

ईसरा-परमेसरा

रंग_राजस्थानी.  हरि-रस

खत्री वँस वार किताइक खेस,प्रिथव्विय विप्रन कूं दिय पेस।
जिपै तैं वार किता बळि जंग,रखावण तात जनेताय रंग।।33।।
कवि अर्थावे
            आपने कितनी ही बार अपने माता-पिता की आज्ञा का पालन करने के लिए बङे-बङे पराक्रमी राजाओं को जीत कर एवं कितने ही क्षत्री-वंशो का नाश करके उनके राज्य और उनकी पृथ्वी ब्राह्मणों को दान कर दी।
-प्रस्तुति सवाई सिंह महिया

No comments:

Post a comment