Sunday, 25 March 2018

ईसरा-परमेसरा

रंग_राजस्थानी
पुकारत आय तु पास परम्म, उबार विसन्न ! कहे सुर अम्म।
प्रमेसर  सांभल़  देव  पुकार,विधूँसण सज्ज हुओ तिहि वार।।19।।

  कवि अर्थावे क...       देवताओं ने आपकी शरण में आकर पुकार की कि , है परमेश्वर विष्णो !  आप हमें बचाइए। उनकी पुकार सुनते ही आप उनका नाश करने के लिए तैयार हो गए ।

No comments:

Post a comment