Friday, 9 February 2018

सेठियाजी ने आदरांजलि

सेठियाजी ने आदरांजलि
आसथा
दिवलो,
न चढ़तै सूरज नै देखै'र
न ढळते नै,
बीज,
न उगते रूंख नै देखै'र
न फळतै नै
पण
बां री आसथा है
बळणे में अर गळणे में।

No comments:

Post a comment