Friday, 2 February 2018

रंग राजस्थानी

ईसरा-परमेसरा
माहरा करम मेटवा माधव, क्रम हों कथिस तुहारा केसव।
नांम तुहाल़ो हों घणनांमी, सासोसास संभारिस सांमी ।।11।।
कवि अर्थावे है क...  हे असंख्य नामों वाले माधव !  मेरे कर्म बंधनों का नाश करने के लिए श्वास प्रति श्वास तेरा सुमिरण करता हुआ तेरे पावन चरित्रों का ( इस हरि रस ग्रंथ में ) , मैं वर्णन करूंगा ।
 प्रस्तुति_____ सवाईसिंह महिया

No comments:

Post a comment