Friday, 2 February 2018

केबत

घी बेच खांड ल्याई, बावळी दोन्यूं में ठगाई
बडेरा भोळा लोगां वास्ते आ केबत कहयां करै जका कोई भी काम में दोन्यूं कांनी ही ठगीज जावै। गांव री भोळी लुगाई आपरो घी तो सस्तो बेच्यो बदले में खांड मूंगी लीवी। केई जणा इण केबत ने इयां भी कहवे क लुगाई सूं घी लियो जणा इण रै बदला में बीती ही सक्कर तोल दी।

No comments:

Post a comment