Tuesday, 9 January 2018

रंग_राजस्थानी

ईसरा सो परमेसरा
तो अै हों पूरा तवण , सकां केम समराथ ।
चत्रभुज ! सह थारा चरित ,निगम न जाणैं नाथ ।।6।।
कवि अर्थावे क  हे चतुर्भुज प्रभो ! मैं उन्हें वर्णन करने में सम्पूर्णतया समर्थ ही कैसे हो सकता हूं ? हे नाथ ! आपके उन समस्त चरित्रों को वेद भी तो नहीं जानते हैं ।
प्रस्तुति-----सवाईसिंह महिया

1 comment: