Friday, 26 January 2018

केबत

गुड़ तो अंधारा मांय भी मीठो लाग ज्यावै।
बडेरा कहता हा के गुड़ तो अंधारा मांय ही मीठो लग ज्यावै। मिनखां रा गुण बखाण सारू ही आ केबत बणी।मिनख रा गुण छाना कोनी रहवे। आ ही बात इण केबत सूं बडेरा बतायां करता। गुड़ तो सुभाव सूं ही मीठो हुवे। थां गुड़ चाहे अंधारा में ही खाओ मीठो ही लागे ला।

No comments:

Post a comment