Friday, 29 December 2017

केबत

तूं सांप ने पकड़णन वास्ते बिल मांय हाथ घाल म्हें मंतर पढूं।

इण केबत में बडेरा सीख देवे क केई जणा खुद तो आप रौ बचाव करने री जुगत कर लेवे अर दूजा ने खतरा में पटकण में सन्को कोनी करे। बडेरा इण तरह रा लोगां सूं सावधान रहवण री बात इण केबत में कहवे।

No comments:

Post a comment