Friday, 29 December 2017

बडेरां री बातां

लग्या प्रीत रा बाण
  राजस्थान री धोरां धरती मांय जळ जितो गहरो,अठा रा मिनख भी उता ही गहरा। अठा रा लोगां री हेत री बातां ख्यातां में मिले।मिनख तो मिनख जिनावरां रा नेह अर हेत री कथावां आज भी बडेरा सुणावता रहवै। हिरण्या रै हेत री बातां मरुधरा में केई रूपां में सुणी जावै।पुराणां समै री बात है , राजस्थान री धोरा धरती में ऊनाळै रै दिनां में दो लुगायां खेत जावै ही कांकङ (वनक्षेत्र) में दो हिरण मरियोङा दिख्या। उणां रै बीच में एक खाडा मांय थोङो'क 
पाणी हौ । जद एक पूछ्यो ----
खङ्यौ नी दीखै पारधी , लग्यौ नी दीखै बाण ।
म्है थने पूछूं ऐ सखी, किण विध तजिया प्राण।
है सखी , अठे कोई शिकारी ही कोनी दिखे,अर बाण भी नीं लागयोड़ो पछे हिरण किकर मरिया ? 
जणा दूजी लुगाई उथलो दियौ --
जळ थोङो नेह घणो ,लग्या प्रीत रा बाण ।
तूं -पी  तूं-पी  कैवतां,दोनूं तजिया पिराण।।
 इण सूनी रोही में  दोनूं हिरण तिसा हा, पाणी एक जणा जोगो हो, पण दोनां में हेत इतरो हौ क एक -दूजा री मनवार करता करता रा पिराण निकळग्या।
प्रस्तुति------धनेसिंह बिठू

No comments:

Post a comment