Thursday, 30 November 2017

समचार

लालजी बा नीं रिया 
मायड़ भासा रा चावा अर ठावा आदरजोग लालदास जी राकेश रै सौ बरस पूरा कर शांत हुवण रा समंचार फेसबुक माथै मिल्या। उणा राजस्थानी भाषा मानता सारूं आखी उमर लड़ाई लड़ी। श्री कृष्णपाल सिंह राखी उणा ने श्रधांजलि देता तक लिख्या....
अंतस हेत अपार,मिळता जदैं महकता।
मानी कदै न हार,लौहपुरुष था लालजी।।
राजस्थानी सौरम कांनी सूं श्रधांजलि...

No comments:

Post a comment