Saturday, 18 November 2017

केबत

दीखत रा ही सोवणा रोहिड़े रा फूल।

बडेरां री आ केबत है क दुनिया में गुण री ही पूछ हुवे। गुण हीन लोगां वास्ते कहयो ग्यो है क दिखण रा फुटरा लोगां में लखण नीं हुए तो इयांका लोगां वास्ते ही आ केबत कही गई क दीखत रा ही सोवणा ज्यां रोहिड़े रा फूल। रोहिड़े रा फूल दिखण रा ही फुटरा लागे इण में खुशबु नीं हुवे।एड़ा लोगां रौ समाज में कोई उपयोग नीं हुय सके।

No comments:

Post a comment