Monday, 13 November 2017

राजिया रा सोरठा

पढ़बो वेद पुराण, सोरौ इण संसार में।
बांता तणौ बिनांण, रहस दुहेलौ राजिया।।

इण संसार मांय वेद-पुराण आदि शास्त्र पढ़णो तो सरल है, पण  हे राजिया, मिनखां सूं बंतळ करण री कला सीखणो-समझणो घणो दोरो काम हुवे।

No comments:

Post a comment