Thursday, 26 October 2017

आयुर्वेद री बातां

हरड़े भरड़े आंवळा,घी सक्कर में खाय।
हाथी आंटे काख में, साठ कोस ले ज्याय।

बडेरा इण दूहा में सीख देवे हरड़े, बेहरडे अर आ आंवळा ने दूध में मिलाय अर खावण सूं आदमी में अति ताकत आय जावै क बो हाथी ने भी खाक में दबाय अर  ले जाय सके।

No comments:

Post a comment