Wednesday, 11 October 2017

केबत

घर रा पूत कुंवारा डोले पाड़ोस्यां का नौ नौ फेरा।

इण केबत सूं बडेरा ओ सन्देस देवे क केई आदमी आपरा काम रै वास्ते लापरवाही बरते अर दूजां रा काम दौड़ दौड़ करे। दूजा रा टाबरां रा ब्याव वास्ते तो घणी दौड़ भाग करे अर घर रा पूत कुंवारा फिरे।

No comments:

Post a comment