Friday, 27 October 2017

समचार

नागौर सूं राजस्थानी री नौ विधावां में पुरस्कार 
 नागौर। राजस्थानी साहित्यकारां वास्ते राजस्थानी री विविध विधावां एके सागे नौ पुरस्कार दिया जावेला।जिले रै गांव डेह रा नेम प्रकासण रा पवन पहाड़िया राजस्थानी सौरम ने बतायो क राजस्थानी भासा, साहित्य, संस्कृति अर परम्परा ने पोखित करण वाळा नौ लेखकां साहित्यकारां ने नौ राजस्थानी विधावां में एक सागे पुरस्कार दिया जावेला। रचनाकार आपरी प्रविष्टियां 30 नवम्बर 2017 तांई जमा करा सकेला। पुरस्कार सम्मान में ग्यारह-ग्यारह हजार रुपया नगद, शाॅल , श्रीफल , प्रशस्ति पत्र अर राजस्थानी साहित्य दियो जावेला।
इण पुरस्कारां में श्री नेमीचंद पहाड़िया स्मृति राजस्थानी पद्य पुरस्कार, अमराव देवी पहाड़िया स्मृति राजस्थानी गद्य पुरस्कार नेम प्रकासण डेह,श्री भंवरलाल सबलावत स्मृति राजस्थानी व्यग्य पुरस्कार,चम्पा देवी सबलावत स्मृति राजस्थानी कहाणी पुरस्कार फूलचंद सबलावत कोलकाता निवासी, कमला देवी पहाड़िया स्मृति राजस्थानी उपन्यास पुरस्कार नागौर रा महेन्द्र पहाड़िया, श्री मोहनदान गाडण स्मृति राजस्थानी भक्ति काव्य पुरस्कार  सेवानिवृत पुलिस उपअधीक्षक सङू निवासी सुखदेव सिंह गाडण, श्री सोहनदान सिंहढायच स्मृति राजस्थानी डिंगल परम्परा पुरस्कार जेके चारण अधिशासी अभियन्ता नागौर, श्री सिरदाराराम मौर्य स्मृति राजस्थानी बाल साहित्य पुरस्कार सेवानिवृत भू -अभिलेख निरिक्षक  जालाराम मौर्य डेह नागौर, श्री जुगल किशोर जेथलिया स्मृति राजस्थानी भाषा सेवा पुरस्कार सवाळख प्रकासण खेण नागौर के लक्ष्मणदान कविया रा सोजन्य सूं दिया जावेला। इण बारे में ज्यादा जाणकारी पवन पहाड़िया सूं लेय सको। सम्मान समारोह 4 फरवरी 2018 ने  कुंजल माता मन्दिर  परिसर राष्ट्रीय राजमार्ग 65 डेह (नागौर) में दिया जावेला।

2 comments:

  1. एकै सागै नो पुरस्कारां री शरुआत कर मायड़ भासा रो सम्मान करबा सारू अर नागौर जिले रो नाम रोशन करबा सारू आदरणीय पहाड़िया साहब नै घणा घणा रंग। ईं सूं पैली नागौर जिले सूं कन्हैयालाल सेठिया मायड़ भासा सम्मान अर कानदान कल्पित राजस्थानी पद्य पुरस्कार पण दिया जा रैया है।पहाड़िया साहब री खैचल सूं अबै नागौर जिलो मायड़ भासा अर साहित्य री सेवा में आगीवाण री भूमिका निभावैला...घणै हरख री बात ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रहलाद सा आपरो घणो आभार पण इण मांय आपणी प्रेरणा रा स्‍त्रोत तो राजस्‍थानी रा हेताळू अर हिमायती कविया साब है अे सगळा रंग वांनै ई है

      Delete