Saturday, 14 October 2017

सेठियाजी ने आदरांजलि

जणां बणे रोटी

चिकदीजै,
फटकीजै,
दळीजै,
गूँधीजै,
बंटीजै,
सेकीजी,
अती हुवै पोटी,
जणा बणे रोटी।

-कन्हैया लाल सेठिया समग्र सूं साभार

No comments:

Post a comment