Saturday, 28 October 2017

सेठिया जी ने आदरांजलि

कुओ अर तळाई

एक हो कुओ 
एक ही तळाई
आपस में बात करी
बेन'र भाई,
पाणी तो एक सो 
फेर फरक कांही ?
बां री बात सुण'र एक पिणयारी आई
बोली एक नै चाहीजै लांबी सी लाव,
दूजी नै थोड़ी सी लुळताई।

No comments:

Post a comment