Thursday, 12 October 2017

उथलो

जांका पड़या सुभाव,क जासी जीव सूं।
नीम न मीठा होय,सींचो गुड़ घीव सूं।।
जिसका जैसा स्वभाव बन गया है,वैसा ही रहेगा। उसके जीते जी तो उसके व्यवहार में बदलाव नहीं होगा। नीम को गुड़ घी से सींचने के बाद भी नीम मीठा नहीं होता है।

No comments:

Post a comment