Thursday, 5 October 2017

केबत

नींद के बिछावण नहीं भूख के लगावण नहीं
बडेरा रां री केबत है कि नींद आवन्ति हुवे तो बिछावण ही कोनी देखे अर भूख लाग्योड़ी हुवे तो बिना लगावण के ही रोटी जिम लेवे।

No comments:

Post a comment