Thursday, 26 October 2017

केबत

घोड़े रै नाळ ठोकती देख गधेड़ो भी पग उठावे।

बडेरा इण केबत सूं ओ सन्देस देवे क जोगा आदमी रौ सम्मान हुवन्तो देख अर नाजोगा भी आपरा सम्मान करावण वास्ते मूंडो सांमी करै। आजकाले तो नाजोगा इण में सफल भी हुय जावै अर आपरी जुगत भिड़ाय अर जोगां ने लारै छोड़ देवे, अर आपरौ सम्मान कराय ही लेवै।

No comments:

Post a comment