Monday, 16 October 2017

केबत


घणी सराहयोड़ी खीचड़ी दांता के लागयां करै।

लोक केबतां में मिनखां रै बोवार माथै घणी बातां अर केबतां कही गई। किणी रा बोवार ने देख र घणी सराही बातां भी थोड़ी बखत पछे ओलबो दिरावण वाळी लागण लाग जावै। मिनखां रौ बोहार बदल ळ तां टीम कोनी लागे।

No comments:

Post a comment