Thursday, 12 October 2017

केबत

नापे नौ गज फाड़े कोनी एक गज।
बातुनी अर घणी बकबक करण वाळा वास्ते इण केबत में बडेरा ओ सन्देस देवे क केई आदमी रापां री लपालप तो घणी कर लेवै पण काम करण अर देवण लेवण ने उण कने कीं कोनी हु

No comments:

Post a comment