Monday, 2 October 2017

केबत

खेती करै न बीणजी जाय, बिद्या के बळ बैठो खाय।

बडेरा इण कैबत में संदेसो देवे न तो खेती करै अर न ही कोई बीणज बोपार करे पण बिद्या के बळ माथे बैठो ही बिना कोई उद्यम करया आपरो गाडो गुड़कावे। आज रा जमाना में भी कई लोग बिना कोई काम काज करया ही आप री बुद्धि रा बळ माथै धाप अर खावे।

No comments:

Post a comment