Sunday, 1 October 2017

कैबत

जै धन दीखै जांवतो आधो लीजै बांट

बडेरा हूशियार की वास्तै आ कैबत गढी है क जै धन हाथ् सूं जावंतो दिखै तो आधो बांट लिजै। सगळो नहीं तो कम सूं कम आधो तो हाथ आवै।

No comments:

Post a comment