Friday, 15 September 2017

बडेरां री सीख

किरपण रै दाळद नहीं, नां सूरां रै सीस।
दातारां रै धन नहीं, नां कायर रै रीस।।
कंजूस आदमी रै गरीबी नीं हुवे,वीर पुरुषों रै माथा नीं हुयां करै दातारां के धन नीं हुयां करे वर डरपोक आदमी ने रीस कोनी आयां करे।

No comments:

Post a comment