Saturday, 19 August 2017

कागद मारवाड़ सूं

                                                    नागौर मारवाड़, तिथ बछबारस भादवा बदी बारस वि. संवत 2074 अंगरेजी                                                      ता.19 अगस्त 2017


सिधश्री जोग लिखी ओपमान बिराजमान सैर नागौर सूं मायड़ भासा रा पाठकां ने घणै मान राम-राम, जै रामजी री अर जै श्रीकृष्णा। घर रा बड़ा बुजरगां ने पगै लागणा, अर छोटा-मोटा टाबरियां ने आसीस बंचावसी। अपरंच समंचार है क म्हें अठे परमात्मा री किरपा सूं सगळा राजी खुसी हां। बूढ़ा बडेरा सब मौज मजा में रामजी री किरपा सूं सोरा। सगळा राजी खुसी आणंद सूं गुजारो करै। सै बाळ-गोपाळ अर टाबर-टोळी माथै कान्हा री किरपा बणी रहवै। आप सें जणां भी भगवान री दया सूं राजी खुसी हुवोला।
आगे समंचार है क अठै राखी पून्यूं जलम आठयंू अर गोगो घणां हरख अर राजी खुसी सूं मनाइज्यौ। बायां घरां आय अर भायां रै राखी बांधगी। जलम आठयूं में तो घर-घर कान्हा री बाल लीला देखण ने मिली। नौ कूंटी मारवाड़ अर आखा राजस्थान में ही गांव-गांव में गोगाजी री पूजा करीजी। आज सनिवार ने घरां में बछ बारस मनाईजी। गायां अर टोगड़ां री पूजा करी। 
आजकालै वाटसअप अर फेसबुक रा जमाना ने देखतां आपनै ओ कागद भेज रहयो हूं। जाण पिछाण रा सगळा जणां ने घणा मान सूं राम-राम जै श्रीकृष्णा बोलज्यो। कागद मिलतां ही सगळा समंचारां सागै जवाब दिरावज्यौ। 
                                                                                          आपरौ ही मायड़ भासा रो हेताळू  
                                                                                                 बाबूलाल टाक

No comments:

Post a comment